उत्तराखंड स्थापना दिवस 2020 की शुभकामनाएं|वैदिक पुराणों में उत्तराखंड का उल्लेख किया गया है .

उत्तराखंड स्थापना दिवस बारे में बताने जा रहे है ,भारत का 27 वा राज्य और देवो की भूमि के नाम विख्यात उत्तराखंड का इतिहास प्रथम उत्तराखंड की पृथक उत्तराखंड की मांगों को लेकर कई आंदोलन के बाद इसकी स्थापना इसका गठन 9 नवंबर 2000 को इस राज्य को दो भागो में बाटा गया है,गढ़वाल मंडल और कुमाऊँ मंडल और राज्य में जिलो की संख्या 13 है .भारत के 27 राज्य के रूप में हुआ तब इसका नाम उत्तरांचल रखा गया लेकिन सन 2000 से 2006 तक uttaranchal se uttarakhand kab bana जनवरी 2007 को इसका नाम उत्तराखंड रखा गया.

उत्तराखंड राज्य में जिलो की संख्या

गढ़वाल मंडल 

कुमाऊँ मंडल 

चमोली 

पिथौरागढ़ 

उत्तरकाशी 

नैनीताल 

पौडी गढ़वाल 

अल्मोड़ा 

हरिद्वार 

बागेश्वर 

टिहरी गढ़वाल 

चम्पावत 

देहरादून 

उधम सिंह नगर 

रुद्रप्रयाग 

 

उत्तराखंड की सीमाएं

उत्तराखंड के पूर्व में नेपाल ,पश्चिम में हिमांचल ,उत्तर में तिब्बत, दक्षिण में उत्तर प्रदेश स्थित है उत्तराखंड की राजधानी देहरादून क्षेत्रफल की दृष्टि से उत्तराखंड राज्य का सबसे बड़ा शहर है .वर्तमान में उत्तराखंड राज्य की दो राजधानियाँ है –देहरादून (शीतकालीन),गैरसैण(ग्रीष्मकालीन.

 उत्तराखंड का उल्लेख

वैदिक पुराणों में उत्तराखंड का उल्लेख किया गया है जिसमें कुमाऊँ को मानस खंड और गढ़वाल को केदारखंड के नाम से दर्शाया गया हैराज्य का नाम संस्कृत शब्दों से मिला हुआ है जिसमें उत्तर से उत्तर दिशा और खंड से भूमि से इसका पूरा मतलब उत्तर की भूमि है

उत्तराखंड में जन आंदोलन

उत्तराखंड में जन आंदोलन जिसमें कई विख्यात आंदोलन है जैसे चिपको आंदोलन पेड़ों की कटाई में और जैसे कुली बेगार आंदोलन डोला पालकी आंदोलन आदि प्रमुख ऐसे आंदोलन है  राज्य  के अंदर कई सारे बहुत सारे स्वतंत्रता सेनानी रहे हैं जैसे कालू सिंह मेहरा ,वीरचंद गढ़वाली, बद्री दत्त पांडे ,गोविंद बल्लभ पंत और आदि उत्तराखंड के कुल जनपद 13 जनपद है

दोस्तों उत्तराखंड राज्य बने आज 20 साल पुरे होने जा रहे लेकिन यहाँ बेरोजगारी दर 14 फीसदी पार हो गयी है .क्या इसलिए यहाँ उत्तराखंड को नया राज्य बनाया गया सोचनीय विषय है.उत्तराखंड स्थापना दिवस की शुभकामनाएं.

दीपावली में आकर्षक amazon ऑफर्स पाने के लिए Telegram Join करे

Leave a Reply