सास भी कभी बहू थी कुमाऊनी लोक कथा

कुमाऊँनी लोक कथा

नमस्कार दोस्तों आज हम आपको एक सास और एक बहू की एक कुमाऊँनी कहानी सुनाने जा रहे हैं.यह कथा आपको एक सीख भी देगी जो आपके जीवन में हर जगह काम आएगी.सास भी कभी बहू थी कुमाऊँनी लोक कथा जब सास ने बहु से कहा कुछ ऐसा Kumauni Lok Katha सास-बहू की कहानी कुमाउनी अंदाज …

Read moreसास भी कभी बहू थी कुमाऊनी लोक कथा

प्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ का महत्व हिंदी में जाने|Idoms and Phrases of Kumaoni

प्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ(कहावते)

किसी भी भाषा के कथन को  रोचक ढंग में बोलना और सुनने वाले को प्रभावित करने शब्दों को ही मुहावरे यानि शार्ट शब्दों में अपनी बातो को प्रस्तुत करना मुहावरे और लोकोक्तियाँ कहा जाता है. अपूण भाषा ,आपुण मुलुक (अपनी भाषा,अपना गाँव) की हर कोई प्रसंशा करता है |हर भाषा के अलग अलग तथ्य है …

Read moreप्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ का महत्व हिंदी में जाने|Idoms and Phrases of Kumaoni

 कुमाऊँनी कहावते :बचपन में दादा-दादी ने सुनाये होंगे कहावते ,किस्से

बचपन में आपने सुने होगे अपने दादा ,दादी से कहावते

                           बचपन में सुने ही होंगे आपने अपने आस पास या अपने दादा , दादी से तो चलिए आपकी यादो को फिर बया करते है ये कुमाऊँनी कहावते और किस्से कही न कही हमारी संस्कृति ,समाज से जुड़े है। सरल शब्दो में समझे मुहावरे …

Read more कुमाऊँनी कहावते :बचपन में दादा-दादी ने सुनाये होंगे कहावते ,किस्से

कुमाऊँनी कहावते:बचपन गुजरा कहावते और किस्से सुनकर

बचपन में आपने सुने होगे अपने दादा ,दादी से कहावते

कहावते  हम आपको बताने जा रहे है कुमाऊ के भाषा में कहावते आपने बचपन में सुने ही होने दादा ,दादी से कुमाऊँनी कहावते और किस्से बचपन से समझ में नही आता लेकिन अब समझ आते है कुमाऊँनी कहावते उत्तरायणी मेला:उत्तरायणी मेला बागेश्वर कुमाऊँ का प्रसिद्ध मेला अकलै उमरे भेट न हुन  अर्थात -अकल और उम्र …

Read moreकुमाऊँनी कहावते:बचपन गुजरा कहावते और किस्से सुनकर