फूलों की घाटी का रहस्य-हनुमान जी यहीं से ले गए थे संजीवनी बूटी

अगर आपको स्वर्ग देखना है- में आपको कुछ आज उत्तराखंड का खुबसूरत आकर्षक और लोकप्रिय पर्यटन स्थल के बारे में बताने जा रहा हु – भारत की फूलो की घाटी (Valley of Flower) चमोली के बारे में बताने जा रहा हु.उत्तराखंड राज्य के गढ़वाल क्षेत्र के हिमालयी क्षेत्र में चमोली जिले में स्थित है | फूलो की घाटी राष्ट्रिय उद्यान समिलित रूप से विश्व धरोहर स्थल में घोषित है. फूलों की घाटी का इतिहास क्या है – फूलो की घाटी राष्ट्रीय उद्यान(Vally of Flowers National Park) करीब 87.50km वर्ग क्षेत्र में फैला हुआ है, इस को विश्व संगठन यूनेस्को द्वारा सन 1982 में राष्ट्रिय उद्यान घोषित किया गया |

चमोली फूलो की घाटी की खूबसुरती

valley of flowers best time to visit –चमोली अपने आप में एक खुबसूरत जिला यहाँ मौसम सुहाना रहता है –यहाँ की सुन्दरता और वातावरण काफी सुहाना लगता है.ऐसा लगता है धरती का स्वर्ग है हिमालय की ऊँची-ऊँची चोटियों जोकि बर्फ से ढंकी हुई सफ़ेद प्रतीत होती है –यहाँ हर कोई घुमने की तम्मना करता है.

फूलों की घाटी का रहस्य

क्या आप जानते है घाटी का रहस्य क्या है –पौराणिक कथाओ के मुताबिक रामायण काल में जब लक्ष्मण जी युद्ध में मूर्क्षित हुए थे तब हनुमान जी इसी घाटी से संजीवनी बूटी लेकर आये थे .इस घाटी का पता सन 1931 लगा था.जब एक अंग्रेजी पर्यटक एस.स्मिथ सन 1931 अपनी पहाड़ो की यात्रा के दौरान यहाँ से लौट रहे थे. फूलो की घाटी के मनमोहक फूलो देखकर इतने प्रभावित हुए थे वे दूसरी बार 1937 फिर आये और बारीकी से यहाँ घुमे और यही से उन्होंने 1938 में (Valley of Flowers) पुस्तक प्रकाशित हुई.तब से यह जगह विश्व ख्याति में पहुच गई .

फूलो की घाटी के खुबसूरत फूल

फूलों की घाटी का इतिहास
फूलों की घाटी का इतिहास

अब आपको में वो बताने वाला हु जिसे देखकर आप भी रोमांच से भरपूर हो जायेगे .कहते है ना एक खुबसूरत फुल जीवन के हर रंग को सुहाना कर देता है.बर्फ से ढकी पहाडियों के घिरी घाटी में 500 से अधिक फूलो की प्रजाति है जो हर इन्सान को अपनी और आकर्षित करती है .मई के महीने के बाद जब बर्फ की चादर छटने लगती है तो फूलो की पंखुड़िया में रंग बिखरने लगता है करीब जुलाई –अगस्त माह के दौरान मनमोहक द्रश्य लगता है. आइये कुछ पौधों में हिमालयी नीला पोस्त ,जिउम ,मार्श ,गेदा ,प्रिभुला ,बछनाग ,स्ट्राबेरी इसे कई सारे पौधे है .ये भी बता दे फूलो के अतभुत औषधीय गुण छुपे हुए है.

सच में ऐसा द्रश्य और कही हो ही नहीं सकता में जितना आपको अपने शब्दों में बया कर रहा हु आप वहां फूलो की घाटी में जाकर व्यतीत करेंगे .दोस्तों आपको कैसा लगा फूलो की घाटी का इतिहास जरुर बताए और इस प्रकार की जानकारी पड़ने के लिए अपना प्यार बनाए रखे.

त्तराखंड के छोलिया नृत्य की शुरुआत किसे हुई जान ले 

 

 

 

Leave a Reply