Patthar ki Chakki Machine :प्राचीन में अनाजो को पत्थरो चक्की मशीन (जातर) से पिसा जाना।

पत्थर की चक्की मशीन (जातर ) के बारे में

 patthar ki chakki machine जी हा दोस्तों सही सुना पुराने ज़माने में अनाजो को पत्थर की चक्की मशीन जिसे जातर भी कहा जाता है उसे पिसा जाता था क्या आपको पता है चलिए आज हम रु बरु करने है पहले के वक्त न ही शाधन हुआ करते थे लेकिन हमारे बुजुर्गो को सलाम है जो इस तरीके के साथ गुजारा करते थे आज आपको लग रहा होगा की सब मशीनों से बनकर आ जाता है ,लेकिन उस वक्त का दौर कुछ अलग था चलिए जानते है कुछ खास बाते  

प्राचीन में आनाजो को पत्थरो से बने (जातर) से पिसा जाना ।Patthar ki chakki machine
Patthar ki chakki machine
पत्थर की चक्की मशीन

पहले जब चक्कियाँ अस्तित्व में नहीं आई थी तब अनाजों को पीसने के लिए जातर का ही उपयोग किया जाता था। लेकिन चक्कियों के आने के बाद लोगों ने इसका उपयोग करना बंद कर दिया। अब तो जातर के बारे में कोई जानता तक नहीं है। पुराने जो लोग हैं वह कहते थे कि इसमें पिसा हुआ आटे की रोटियाँ काफ़ी पोष्टिक और ताकतवर होती थी आजकल के चक्कियाँ में पिसे हुए आटे के मुकाबले। इसलिए पहले लोग काफ़ी ताकतवर होते थे।
बनावट:– इसमें दो पलड़े होते हैं और एक पलड़ा दूसरे के ऊपर रखा जाता है बीच में एक लकड़ी लगी होती है। जिसके सहारे दोनों पलड़े जुड़े रहते हैं। ऊपर के पलड़े में दो या तीन होल होते हैं जिनमें अनाज को पीसने के लिए डाला जाता है। इसके सिरे पर एक और होल होता है जिस पर लकड़ी फँसा के जातर को घुमाया जाता है और अनाज पिसकर दोनों पलड़ों के बीच से निकलता है। हालाँकि अब तो लोगों ने इसमें अनाज पीसना बंद कर दिया है। लेकिन गाँवों में आज भी इसका उपयोग दालों जैसे -मसूर,उड़द आदि को दलने के लिए किया जाता है।

उम्मीद है आपको यह पोस्ट ज़रूर पसंद आयी होगी। इसे ज़्यादा से ज़्यादा शैयर करें ताकि और लोगो को भी इस बारे में पता चल सके।
धन्यवाद

माँ कालिका मंदिर कांडा जिसे स्वयं आदि गुरु शंकराचार्य जी ने बनाया

रंगीलो पहाड़ फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करे –rangilopahad
रंगीलो पहाड़ व्हाट्सप्प ग्रुप जुड़ने के लिए क्लिक करे – rangilopahad
रंगीलो पहाड़ इंस्टाग्राम में जुड़ने के लिए क्लिक करे- rangilopahad

Leave a Reply

%d bloggers like this: