उत्तराखंड के मेथोडिस्ट चर्चो का इतिहास -एशिया का पहला मेथोडिस्ट कहा है

क्रिसमस यानि ईसाई धर्म के प्रभु यीशु के जन्मदिन का पर्व। यह पर्व  जगह काफी हर्षो उल्लास के साथ मनाया जाता है।इस दिन बड़ो से लेकर बच्चो में गजब का उत्साह होता है। यह त्यौहार पुरे विश्व में बड़ी धूम धाम के साथ मनाया जाता है। क्रिस्टमस साल के अंतिम दिन 25 दिसंबर को मनाया जाता है। इस दिन ईसाई धर्म लोग एक दूसरे को उपहार व चर्च में समारोह का आयोजन करते है जिसमे चर्च में सजावट और क्रिसमस का पेड़ ,रगबिरंगी रोशनिया ,और जन्म की झांकी आदि से सजावट करते है।कुमाऊँ में यह त्यौहार काफी धूमधाम से मनाया जाता है। आज हम आपको उत्तराखंड के मेथोडिस्ट चर्च के बारे में बताने जा रहे है  कुमाऊँ में यह त्योहार नैनीताल ,अल्मोड़ा ,पिथौरागढ़ ,बागेश्वर ,चम्पावत और अन्य जगहों में मनाया।  दरअसल यह त्यौहार किसी एक समुदाय का न होकर सभी धर्मो और मान्यताओं का सामूहिक उत्सव बन गया है।

कुमाऊँ के Methodist Churches

नैनीताल में मेथोडिस्ट चर्च

यह नैनीताल में स्थित कुमाऊं का ही नहीं बल्कि एशिया का पहला मेथोडिस्ट चर्च है। यह  नैनीताल में मल्लीताल रिक्सा स्टैंड के पास बना है।इस चर्च को देखने  यहाँ ईसाई समाज और पर्यटकों का सबसे ज्यादा क्रेज है यह चर्च कुमाऊँ  का  सबसे पुराना होने  के  साथ इस साल 2019 में 160 साल पुरे कर चुका है।
शुरुआत -अमेरिकी मेथोडिस्ट विलयम बटलर जब भारत आये उन्होंने हर जगह मेथोडिस्ट धर्म का प्रचार किया 1858 में नैनीताल आकर methodist के प्रचार के दौरान बटलर ने उस समय कमिश्नर हेनरी रैमजे के सहयोग से 1859 में मल्लीताल रिक्शा स्टैंड के समीप चर्च की  नींव रखी  बाद में यह 1870 में बनकर तैयार हुआ।

पिथौरागढ़ में मैथोडिस्ट चर्च

यह पिथौरागढ़ के नगर सिल्थाम में स्थित है। इस चर्च को भी 140 वर्ष  पुरे हो चुके है। इसकी स्थापना सन -1879 में हुई।
  • पिथौरागढ़ में स्थित -चंडाक Methodist Church
पिथौरागढ़ में यह जिला मुख्यालय से कुछ दूर में स्थित है इस चर्च को भी 129 वर्ष पुरे हो गए है। स्थानीय निवासियों का कहना है वर्ष 1890  में अमेरिकी महिला मिस मैरी रीड ने यहाँ पर अस्पताल व चर्च की स्थापना की.

अल्मोड़ा बडन चर्च 

अल्मोड़ा के नगर के L. R शाह रोड के पास स्थित बडन मेमोरियल चर्च 19 वी सताब्दी के अंतिम दशक में रेवरन जेएच बडन की याद में बनाया गया। यह चर्च भी 122 वर्ष पुराना है। इसका निर्माण 2 मार्च 1897 को बनाया गया।

बागेश्वर Methodist Church

यह बागेश्वर के गरुड़ ब्लॉक स्थित है और यह चर्च भी 106 वर्ष पुराना है। इस चर्च को जन  सहयोग से सन 1913 में बनाया गया।  यहाँ क्रिसमस और अन्य त्योहारो पर होने वाले कार्क्रमों में इसे धर्म अलावा अन्य धर्मों को मानने वाले भी उत्साह के साथ भागीदारी करते है।
दोस्तों हमारी कोशिस रहती है आपको अच्छी और सही जानकारी मिले और आज हमने बताया उत्तराखंड में स्थित Kumaon में Methodist Churches के बारे में आपनी राय जरुर दे कमेंट करना न भूले

तो दोस्तों आपने जन लिए होगा उत्तराखंड के मेथोडिस्ट चर्च के बारे में आप सभी साथियो को Marry Chirstmas आप पर ईशु भगवान की कृपा बनी रहे धन्यवाद 

 

Leave a Reply