प्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ का महत्व हिंदी में जाने|Idoms and Phrases of Kumaoni

किसी भी भाषा के कथन को  रोचक ढंग में बोलना और सुनने वाले को प्रभावित करने शब्दों को ही मुहावरे यानि शार्ट शब्दों में अपनी बातो को प्रस्तुत करना मुहावरे और लोकोक्तियाँ कहा जाता है. अपूण भाषा ,आपुण मुलुक (अपनी भाषा,अपना गाँव) की हर कोई प्रसंशा करता है |हर भाषा के अलग अलग तथ्य है और हर किसी भाषा में प्रभावित शब्दों का प्रयोग किया जाता है और उनका अलग महत्व  है .मेने और आपने हिंदी और अंग्रेजी में मुहावरे और लोकोक्तिया (Idoms and Pharases) जरुर पड़े होंगे.आज में आपको बताने वाला हु .उत्तराखंड में बोली जाने वाली प्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ(कहावते )का  महत्व हिंदी में जाने 

 

कुमाऊँनी भाषा के प्रचलित कहावते और मुहावरे

 

कुमाऊनी  कहावते– इसे लोकोक्तियाँ कहो या कहावते एक ही चीज है यानि लोगो के द्वारा बनाए गए शब्द है यह अपने ऐतिहासिक ,सामाजिक ,सांस्कृतिक ,धार्मिक ,स्थानीय तत्व को प्रदर्शित करते है.कुमाउनी की सैकड़ो कहावते है जो बहुत प्रचलित है आइये जो इस प्रकार है इसका हिंदी में क्या अर्थ है.

   

अकले उमरे भेट न हुनि 

हिंदी में अर्थ -अकल और उम्र की कभी मुलाकात नहीं होती है 

सीख -हमें सही समय पर सही कार्य करना चाहिए 

 

अति बिराव मुस न मरण 

अर्थ –बहुत बिल्लियों के समूह में चूहे नहीं मरते हिया 

सीख -सभी कार्य एक साथ नहीं किये जाते है 

  

आपण मनकी कुकुर बली 

हिंदी में अर्थ -अपने घर में कुत्ता भी बलशाली होता है 

सीख –अपने घर में सभी बलशाली होते है बाहर भी होना चाहिए 

 

कच्यार में ढुंग हान ,मुख ले लाग 

हिंदी में अर्थ -कीचड़ में पत्थर फैका तो मुह में आएगा 

सीख –मुर्ख आदमी के मुह लगकर स्वयं अपमानित होना पड़ेगा 



च्यली सुधरे मैक हत ,च्यल सुधरो बाबुक हत 

हिंदी में अर्थ -लड़की सुधरती है माँ के हाथ और लड़का सुधरता हाथ पिता के हाथ 

सीख -माँता-पिता अपने  बच्चो को रीति ,रिवाज ,अच्छे विचार सिखाना चाहिए  

 

 पहाड़ी  मुहावरे और उनका अर्थ

खाट पकड़ना 

हिंदी में अर्थ -बीमार हो जाना और हताश निराश हो जाना 

 

गागर जस हुन 

हिंदी में अर्थ -घड़सा होना 

अर्थात -गुस्से से मुह फुलाना 

 

के पर घाट-घुंगुर जे के लटकि रूनी 

हिंदी में अर्थ -किसी पर घंटा घुन्गुरु जो क्या लटके रहते है 

अर्थात-किसे के स्वभाव को रूपाकृति से पहचान कठिन होता है 

 

उस्तर जस फेसण 

हिंदी में अर्थ -उस्तरा जैसा घुमाना 

अर्थात-किसी चीज को जड़ से साफ करना 

 

आज हमने जाना प्रचलित कुमाऊँनी मुहावरे और लोकोक्तियाँ(कहावते ) और पहाड़ी कहावते व पहाड़ी मुहावरे के बारे में आपको कैसा लगा पड़कर जरुर बताये और हमारे साथ जुड़े धन्यवाद 

 

आगे यह भी पड़े 

रंगीलो पहाड़ फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करे –rangilopahad

 

Leave a Reply