घास के लुटे की बनावट पहाड़ी ही जान सकता है

असोज का महिना आने ही वाला है अब पहाड़ो में सब असोज समेटने में व्यस्त होगे

घास के लुटे की बनावट
 ghas ke lute

आइये जानते है घास के लुटे की बनावट पहाड़ो में कसी तरह के की जाती है ,इस तरह की बनावट Uttarakhad और पहाड़ी इलाको में किया जाता है ,क्यों किया जाता है घास की बनावट ,क्या आप कभी पहाड़ों में आए हो? क्या आपने कभी पहाड़ों का रूख किया है? अगर हाँ तो यहां आपने शंकु के आकार के तथा सूखी घास के बने हुए जिन्हें लुट या लूटे कहा जाता है ज़रूर देखे होंगे. घास को लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए इन्हें बनाया जाता है,क्योंकि पूरे वर्ष हरी घास पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होती.

घास के लुटे का निर्माण :-पहाडियों के मेहनत का प्रतिक घास के लुटे

जब घास लम्बी हो जाती है तो घास को काटने के बाद फैलाकर सुखाया जाता है. जब घास अच्छे से सूख जाती है तो घास के छोटे -छोटे गठ्ठर जिन्हें पहाड़ों में पु कहा जाता है बनाए जाते हैं. इसके बाद लुट बनाने की प्रक्रिया शुरू होती है. इनको या तो एक लंबी मजबूत और मोटी लकड़ी पर(जिन्हें ठांगर कहा जाता है ) या एक लंबे और सीधे पेड़ जिसकी नीचे की टहनियाँ काट दी जाती हैं उस पर बनाया जाता है. ठांगर ज्यादातर चीड़ के होते हैं. उसके बाद इसके नीचे पर पत्तियाँ,भूसा या छोटी टहनियों को रखा जाता है. ताकि जो नीचे की घास होती है उसपर नमी ना लगे. इसके बाद पुओं को इसके ऊपर सटाकर रखते जाते हैं.इसके लिए कम से कम दो लोगों की आवश्यकता होती है. एक नीचे से घास देता है तथा दूसरा उसे सटाकर रखता रहता है. रखते समय इनको पैरों से टाइट दबाया जाता है ताकि इनके बीच गैप ना रहे और पानी अंदर ना जा पाए. इसके बाद जब सारे पुओं को रख दिया जाता है उसके बाद पुओं से ही इस प्रकार बाँधा जाता है कि जरा सा भी पानी अंदर की घास में ना जा सके और घास सुरक्षित रहे. इस प्रकार लूटों का निर्माण किया जाता है चाहे कितनी भी बारिश हो जाए लेकिन इनके अंदर की घास कभी गीली नही होती और सुरक्षित रहती है.

Harela Festival 2020:Kumaon का प्रसिद्ध त्यौहार कैसे बोया जाता है

लुटे सूखी घास के अलावा पराव यानी जो धान चूटने के बाद डंडे बचते हैं उनके भी बनाए जाते हैं.
पहले जब बिस्तर नहीं होते थे तो हमारे पूर्वज पराव को बिछाकर बिस्तर के रूप में भी प्रयोग करते थे क्योंकि यह काफ़ी गर्म होता है और इसमें सीलन भी नहीं लगती.

इस पोस्ट के माध्यम से हमने प्रयास किया गाँव या पहाड़ की लोग किस तरह मेहनत करके आपना गुजारा करते है इस तरह का जुगाड़ काफी प्रसंसनीय है Pahadi अगर हमने उचित जानकारी दी आपसे अनुरोध है कमेंट करे इस तरह की ब्लॉग बनाते रहेंगे,

कुमाऊँनी कहावते:बचपन गुजरा कहावते और किस्से सुनकर

घास के लुटे की बनावट
घास के लुटे की बनावट

उम्मीद है आपको यह जानकारी पसंद आयी होगी इसे ज़्यादा से ज्यादा लोगों तक शैयर ज़रूर करें
जय देवभूमि उत्तराखंड
धन्यवाद

रंगीलो पहाड़ फेसबुक पेज से जुड़ने के लिए क्लिक करे –rangilopahad
रंगीलो पहाड़ व्हाट्सप्प ग्रुप जुड़ने के लिए क्लिक करे – rangilopahad
रंगीलो पहाड़ इंस्टाग्राम में जुड़ने के लिए क्लिक करे- rangilopahad

 

Leave a Reply