अटल बिहारी वाजपेयी जयंती -अटल बिहारी वाजपेयी जी के बारे में कुछ रोचक तथ्य

अटल बिहारी वाजपेयी जयंती atal bihari vajpayee birthday-अटल बिहारी वाजपेयी ना सिर्फ एक कुशल नेतृत्वकर्ता थे बल्कि वो एक महान लेखक और कवि भी थे.अटल बिहारी वाजपेयी 3 बार भारत के प्रधानमंत्री बने.साथ ही भारतीय जनसंघ के संस्थापकों में भी प्रमुख रूप से जाने जाते हैं.आज हम अटल बिहारी वाजपेयी जी की पूरी जीवनी के बारे में जानेंगे.

अटल बिहारी वाजपेयी जीवनी

अटल बिहारी वाजपेई जी की पुण्यतिथि कब है? अटल बिहारी वाजपेयी जी का जन्म 25 दिसंबर 1924 को कृष्ण बिहारी वाजपेयी और उनकी धर्म पत्नी कृष्णा वाजपेयी के घर हुआ था.कृष्ण बिहारी वाजपेयी वैसे तो आगरा के एक प्राचीन शहर बटेश्वर के मूल निवासी थे लेकिन मध्य प्रदेश के ग्वालियर में वह एक अध्यापक थे.वह एक अध्यापक तो थे ही साथ ही हिन्दी और ब्रज भाषा के एक अच्छे कवि भी थे.उनके कवि होने का अटल बिहारी वाजपेयी जी पर भी गहरा प्रभाव पड़ा और एक कवि के गुण अपने पिता से ही वाजपेयी जी में आए.ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज जो कि अब रानी लक्षमीबाई कॉलेज है से बी.ए शिक्षा ग्रहण की ओर साथ ही वह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के स्वयंसेवक बने और संघ के सभी कार्यक्रमों में भाग लेने लगे.इसके बाद उन्होंने एम.ए.की डिग्री कानपुर के डी. ए. वी.कॉलेज से ली और फिर कानपुर में ही उन्होंने एल. एल. बी.की पढ़ाई शुरू कर दी.लेकिन राजनीति की तरफ लगाव अधिक होने के कारण उन्होंने पढ़ाई छोड़कर पूरी तरह से संघ को ही अपना लिया.

अटल बिहारी वाजपेयी का राजनैतिक सफ़र 

अटल बिहारी वाजपेयी जी के अगर राजनीतिक जीवन की बात करें तो उन्होंने सबसे पहले 1952 में लोकसभा का चुनाव लड़ा था लेकिन उसमें उन्हें हार का सामना करना पड़ा था लेकिन फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और इसके बाद अगले लोकसभा चुनाव 1957 में जनसंघ से बलरामपुर ,गोंडा उत्तर प्रदेश से जीतकर लोकसभा में पहुंचे.अटल बिहारी जी 20वर्ष तक जनसंघ के सदस्यीय डाल के नेता रहे और 1968 से 1973 तक वह भारतीय जनसंघ के अध्यक्ष भी रहे.1977 से 1979 तक वह भारत के विदेश मंत्री भी रहे.1980 में अटल बिहारी जी को भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष पद का दायित्व भी सौंपा गया.दो बार राज्यसभा के लिए भी वाजपेयी जी निर्वाचित हुए.इसके बाद 1996 से 2004 तक अटल बिहारी वाजपेयी जी भारत के प्रधानमंत्री रहे .
प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी –अटल बिहारी जी ने प्रधानमंत्री के रूप में अनेकों कार्य किए जिनके कारण भारत को एक बेहतर आयाम मिला.जिनमें से कुछ प्रमुख कार्य हैं .

अटल बिहारी वाजपेयी ने क्या किया?

1-11 और 13 मई 1998 को पोखरण में भूमिगत परमाणु विस्फोट को सफलतापूर्वकसंपन्न करने के बाद उन्होंने भारत को एक परमाणु शक्ति से संपन्न देश बनाया.इसके बाद से ही भारत वैश्विक स्तर पर एक सुदृढ़ शक्ति के रूप में उभरा.इस परीक्षण को लेकर कई देशों ने भारत पर दवाब भी बनाया लेकिन उन सबका अटल जी और अन्य साथियों ने दृढ़ता से सामना किया और परीक्षण को सफलतापूर्वक संपन्न कराया.
2-स्वर्णिम चतुर्भुज योजना इस योजना के तहत दिल्ली कलकत्ता,चेन्नई मुंबई को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ा गया.अटल बिहारी वाजपेयी जी के समय जितने राजमार्गों का निर्माण हुआ उतना किसी के समय में नहीं हुआ.
3-अटल जी से नई टेलीकॉम तकनीक तथा कोकण रेलवे की भी शुरूआत की ओर बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाया.साथ ही राष्ट्रीय सुरक्षा समिति,आर्थिक सुधार समिति,उद्योग समिति एवं व्यापार समिति की भी स्थापना की.
2015 में अटल बिहारी वाजपेयी जी को भारत

अटल जी की कविताएं

हिन्दू तन-मन,हिन्दू जीवन ,रग राग हिन्दू मेरा परिचय|

में शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार-क्षार|

डमरू की वह प्रलय-ध्वनि हू,जिसमे नचता भीषण संहार|

रणचंडी की अतृप्त प्यास,में दुर्गा का उन्नत हास|

में यम का प्रलयकर पुकार,जलत मरघट का धुअधार|

फिर अंतरतम की ज्वाला से जगती से आग लगा दू मै|

यदि धधक उठे जल,थल ,अंबर ,जड़ चेतन तो कैसा विस्मय ?

हिन्दू तन-मन,हिन्दू जीवन ,रग राग हिन्दू मेरा परिचय

में अखिल विश्व का गुरु महान,देता विद्या का अमरदान|

में दिखलाया मुक्तिमार्ग,मैंने सिखलाया ब्रह्मज्ञान|

अटल बिहारी वाजपेयी जी एक कवि भी थे उनकी अनेकों कविताएं और काव्य संग्रह प्रकाशित हुए थे.उनका एक प्रमुख काव्य संग्रह मेरी इक्यावन कविताएं है.इसके अलावा ताजमहल,राग रंग हिन्दू मेरा परिचय,राजनीति की रपटीली राहें,संसद में तीन दशक, कैदी कविताएं की कुंडलियां आदि हैं,

अटल बिहारी वाजपेयी जी के बारे में 

आज हमने जाना देश के एक ऐसे महान पुरुष जिन्होंने देश के कार्यो को पूरी दुनिया तक पहुचाया देश के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जयंती के बारे में .

सरदार वल्लभ भाई पटेल का जीवन परिचय आखिर लौह पुरुष क्यों कहते है ?

 

Leave a Reply